Digital Marketing का काम कैसे शुरू करें? Digital Marketing in Hindi

आज के युग में सब ऑनलाइन हो गया है। इंटरनेट ने हमारे जीवन को बेहतर बनाया है और हम इसके माध्यम से कई सुविधाओं का आनंद केवल फ़ोन या लैपटॉप के ज़रिये ले सकते है।

Online shopping, Ticket booking, Recharges, Bill payments, Online Transactions (ऑनलाइन शॉपिंग, टिकट बुकिंग, रिचार्ज, बिल पेमेंट, ऑनलाइन ट्रांसक्शन्स) आदि।

जैसे कई काम हम इंटरनेट के ज़रिये कर सकते है। इंटरनेट के प्रति Users के इस  रुझान की वजह से बिज़नेस Digital Marketing (डिजिटल मार्केटिंग) को अपना रहे है।

यदि हम market stats की ओर नज़र डालें तो लगभग 80% shoppers किसी की product को खरीदने से पहले या service लेने से पहले online research करते है। ऐसे में किसी भी कंपनी या बिज़नेस के लिए डिजिटल मार्केटिंग महत्वपूर्ण हो जाती है।

Contents

Digital Marketing का परिचय

आजकल की इंटरनेटिया दुनिया में Digital Marketing एक ऐसा fancy शब्द है जिसका इस्तेमाल करके आप आसानी से ऑफिस में अपने colleagues पर impression जमा सकते हैं।

हममें से ज्यादातर लोगों के लिए ‘डिजिटल मार्केटिंग’ का यह शब्द ज्यादा पुराना नहीं है। ज्यादातर लोगों को digital marketing के बारे में तब पता चला जब इंटरनेट उनकी ज़िंदगी का एक जरूरी हिस्सा बन गया।

यह शब्द साल 2000 के बाद ज्यादा popular होना शुरू हुआ। इंटरनेट में search engine, social media, apps आदि का विकास होने के बाद से यह शब्द लोगों के लिए आम बन गया।

आज बहुत सारे लोग हैं जो digital marketing करके लाखों रुपए कमा रहे हैं। बिना किसी physical office के ही कई लोग सिर्फ अपने कंप्युटर से काम करके अच्छा-खासा पैसा कमा रहे है।

आप चाहें तो आप भी घर बैठे Digital Marketing करके earning कर सकते हैं, लेकिन इसके लिए यह जरूरी है कि पहले आप डिजिटल मार्केटिंग के बारे में अच्छी तरह से जान-समझ लें और उसे अच्छी तरह से सीखें।

इस आर्टिकल में हमने डिजिटल मार्केटिंग से संबंधित चीजों जैसे- डिजिटल मार्केटिंग क्या है, कैसे करें और इससे पैसे कैसे कमाएँ आदि के बारे में बात की है।

इसलिए अगर आप भी Digital Marketing में interested हैं तो इस पोस्ट को बड़े ध्यान से पढ़ें।

Digital Marketing का परिभाषा

पिछले कुछ सालों में आपने notice किया होगा कि बहुत सारी कंपनियों ने Road के किनारे Hoarding लगाने कम कर दिए हैं।

कारण?

कारण है :- “डिजिटल मार्केटिंग का एक अच्छे, सस्ते और effective माध्यम के रूप में उभरना।”

जैसे कि नाम से ही पता चलता है कि डिजिटल मार्केटिंग का अर्थ है :-

किसी चीज को Digital माध्यमों (या electronic devices) के द्वारा promote करना। डिजिटल माध्यमों यानि फोन, कंप्युटर, टैबलेट, इंटरनेट, सोशल मीडिया के द्वारा किसी चीज का प्रचार करने को Digital Marketing कहा जाता है।

गौरतलब है कि TV और Radio Marketing डिजिटल मार्केटिंग के अंतर्गत नहीं आती हैं वे traditional marketing के अंतर्गत आती है। डिजिटल मार्केटिंग के अंतर्गत ज्यादातर इंटरनेट से related चीजें आती हैं।

उदाहरण के लिए आए दिन हमारे फोन पर कंपनी वालों के SMS आते रहते हैं और You tube पर ads आते रहते हैं। ये सभी चीजें digital marketing का ही एक हिस्सा हैं।

Digital Marketer कौन होता है?

डिजिटल मार्केटर उस व्यक्ति को बोलते हैं जो चीजों को digitally promote करने में माहिर होता है। जिसे पता होता है कि कैसे किसी वेबसाइट को गूगल में अच्छी position पर रैंक करवाना है और कैसे किसी साइट पर traffic लाना है।

Digital Marketing के उदाहरण

हम अक्सर digital marketing के बहुत सारे उदाहरणों को अपनी रोजमर्रा की ज़िंदगी में देखते हैं। जिनमें से कुछ हैं-
  1. फोन पर कंपनी वालों के promotional messages आना।
  2. सोशल मीडिया जैसे facebook, instagram पर ads आना।
  3. यूट्यूब पर ads आना।
  4. किसी वेबसाइट या ब्लॉग को विज़िट करने पर ads दिखना।
  5. गूगल में कुछ सर्च करने पर सबसे ऊपर ads दिखना।
  6. यूट्यूब विडिओ में product और services का paid promotion करना।
  7. कंपनियों के emails आना।

Digital Marketing क्यों जरूरी है ?

आज के जमाने में चाहें आप किसी भी तरह का business कर रहे हों; डिजिटल मार्केटिंग आपके बिजनेस को आगे ले जाने के लिए एक जरूरी कदम है।

डिजिटल मार्केटिंग, Marketing के traditional तरीकों की तुलना में कम खर्चीली और आसान है। एक ओर जहाँ मार्केटिंग के पुराने तरीकों में हमारा इस पर कोई control नहीं होता है हमारा ad कौन देख रहा है वहीं दूसरी ओर डिजिटल मार्केटिंग के द्वारा हम बहुत ही narrowly targeted audience तक पहुँच बना सकते हैं।

मार्केटिंग के ट्रेडिशनल तरीकों (जैसे- TV, Radio) में हमें काफी मजबूत budget की जरूरत होती है जो कि अक्सर लाखों में होता है। जबकि digital marketing के केस में ऐसा नहीं है। हम डिजिटल मार्केटिंग को कुछ सौ रुपए से भी शुरू कर सकते हैं।

आजकल हर कोई Online घूमता रहता है इसलिए हमारे business की growth के लिए यह जरूरी है कि हम digital marketing को थोड़ा ही सही लेकिन शुरू करें।

Digital Marketing का परिभाषा

डिजिटल मार्केटिंग करना आपके कारोबार के लिए बहुत ज्यादा फायदेमंद साबित हो सकता है बशर्तें कि इसे सही तरीके से किया जाए। ये कुछ steps हैं जिन्हें आप अपने digital marketing campaign को सफल बनाने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं-

1. अपने लक्ष्य निर्धारित करें

किसी भी चीज की मार्केटिंग तब तक नहीं हो सकती है जब तक कि आप निश्चित ना हो कि मार्केटिंग करने का आपका उद्देश्य क्या है। इसलिए सबसे पहले यह decide करें कि आप marketing करना क्यों चाहते हैं, आपके goals क्या है?

मान लीजिए कि अगर आप अपनी वेबसाइट की marketing कर रहे हैं तो हो सकता है कि आप अपनी वेबसाइट पर traffic बढ़ाना चाहते हों।

हो सकता है कि आप अपनी website पर किसी चीज को बेचना चाहते हों। हो सकता है कि आप अपनी वेबसाइट के बारे में लोगों को सिर्फ लोगों को बताना चाहते हों (brand awareness) या फिर हो सकता है कि आप आपका marketing करने का उद्देश्य अपनी email list बढ़ाना हो।

आपका goal चाहे जो भी हो मगर उसके प्रति निश्चित रहें।

2. अपनी टारगेट Audience को चुनें

एक बार जब आप अपना मार्केटिंग लक्ष्य निर्धारित कर लेते हैं तब बारी आती है- अपनी targeted audience निश्चित करने की।

उदाहरण के लिए, अगर आपका cosmetics का business है तो आपकी target audience कुछ इस तरह की हो सकती है-

  1. Gender- Female
  2. Age- 10 to 50 Year
  3. Interest- Makeup, Cosmetics, Beauty, technical etc.

इसमें आपको ऐसी ऑडियंस चुननी है जो आपके लिए सबसे best है।

3. सही प्लेटफॉर्म चुनें

अलग-अलग तरह के लोग अलग-अलग platforms पर घूमते हैं।

उदाहरण के लिए, Fashion, Acting और Modeling से जुड़े ज़्यादातर लोग Instagram इस्तेमाल करते हैं। राजनीति से जुड़े लोग Twitter का ज्यादा इस्तेमाल करते हैं। वहीं कारोबार से जुड़े लोग LinkedIn का ज्यादा उपयोग करते हैं।

इस तरह से आपको देखना है कि आपकी target audience सबसे ज्यादा कौन-सा platform use करती है। उदाहरण के लिए अगर आप अपने Cosmetics के बिजनेस की marketing करना चाहते हैं तो Instagram आपके लिए एक अच्छा platform साबित हो सकता है।

नोट :- बेहतर नतीजों के लिए आप एक से ज्यादा channels का भी use कर सकते हैं।

4. अपनी प्रोफ़ाइल और वेबसाइट को सही बनाएँ

अगर आप मार्केटिंग के द्वारा लोगों को अपने social pages पर भेजना चाहते हैं तो Ad लगाने से पहले अपने social accounts को सही से setup कर लें। उनमें सही credentials और links डालें ताकि लोगों को कोई परेशानी न हो।

इसके अलावा अगर आप लोगों को अपनी वेबसाइट तक भेजना चाहते हैं तो अपने landing page (वेबसाइट का वह पेज जो क्लिक करने के बाद लोगों को सबसे पहले दिखेगा) को सही से set करें। उसे attractive और आसान बनाएँ।

5. कीवर्ड रीसर्च करें

अगर आप Google में ads लगाना चाहते हैं तो keyword research जरूर करें। यह पता लगाएँ कि लोग आपके बिजनेस के विषय से संबंधित किन-किन चीजों को ढूंढते हैं और किस तरह से ढूंढते हैं।

6. अपना बजट निर्धारित करें

आप अपने बिजनेस को digitally market करने में कितना पैसा खर्च करना चाहते हैं यह ठीक से निर्धारित करें। साथ ही साथ इस बारे में भी निश्चित रहे कि आप अपना marketing campaign कितने दिन तक चलाना चाहते हैं।

Tip- अगर आप पहली बार digital marketing कर रहे हैं तो एक दम से बहुत सारा पैसा इसमें न लगाएँ। बेहतर होगा कि आप अपने budget को टुकड़ों में बांटें। जैसे कि- जनवरी के लिए 10%, फरवरी के लिए 8%, मार्च के लिए 12% etc. इससे risk कम हो जाता है।

7. एड लगाएँ

सातवाँ और सबसे महत्वपूर्ण step है ad लगाना। अपने ads को अच्छी तरह से customize करें। उन्हें attractive रखें। Copywriting पर विशेष ध्यान दें।

8. विश्लेषण करें

कई लोग बस ad लगाकर छोड़ देते हैं और अच्छे नतीजे आने का wait करते हैं। लेकिन ऐसा नहीं होता।

एड लगाने के बाद हमें अपने campaign को track भी करना होता है। उसके आधार पर यह विश्लेषण भी करना होता है कि क्या हम सही तरीके से काम कर रहे हैं। अगर नहीं तो कहाँ पर हमें बदलाव करने की जरूरत है। कहाँ पर चीजों को बेहतर बनाया जा सकता है।

इस तरह चीजों का विशेषण करने से हम अपने digital marketing campaign को बेहतर बना सकते हैं।

इन steps को सही से फॉलो करके आप अपने digital marketing campaign को सफल बना सकते हैं।

9. Digital Marketing तकनीकें

ये कुछ digital marketing techniques हैं जिन्हें आप अपने digital marketing campaign को सफल बनाने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं-

1. लोकल SEO :- अगर आपका कोई ऑफ़लाइन बिजनेस है और आप उसे अपने इलाके या शहर के लोगों तक पहुंचाना चाहते हो तो Local SEO इस काम में आपकी मदद कर सकता है।

2. SEM :- सर्च इंजन मार्केटिंग के द्वारा आप सर्च इंजनों जैसे गूगल , बिंग के माध्यम से लोगों को अपनी वेबसाइट तक ले जा सकते हो।

3. SMM :- डिजिटल मार्केटिंग की ‘सोशल मीडिया मार्केटिंग’ technique के द्वारा आप social web का use करके लोगों को अपने product & services की तरह ले जा सकते हैं।

4. Remarketing :- री-मार्केटिंग एक ऐसी technique है जिसके द्वारा आप उन लोगों को फिर से अपनी साइट पर ला सकते हैं जो कि एक बार आपकी साइट पर आ चुके हैं।

5. Content Marketing :- कंटेन्ट मार्केटिंग के द्वारा हम free में बहुत सारे लोगों को अपनी साइट पर ला सकते हैं और साथ ही साथ अपनी brand awareness में भी इजाफा कर सकते हैं।

Digital Marketing में करियर कैसे बनाएँ?/कैसे सीखें

आज बहुत सारे लोग ऐसे हैं जो digital marketing को एक करियर के रूप में अपनाना चाहते हैं मगर उन्हें यह पता नहीं होता है कि आखिर शुरुआत कहाँ से की जाए।

1. डिजिटल मार्केटिंग में करियर बनाने के लिए सबसे पहले आपको इससे जुड़ी छोटी-छोटी बाते जाननी चाहिए और उनके साथ छोटे-छोटे experiments करने चाहिए।

मसलन सबसे पहले आप एक छोटे-सा ब्लॉग बना सकते हैं कुछ महीनों तक उसपे काम कर सकते हैं। इससे आपको पता चलेगा कि Search Engine कैसे काम करते हैं? ब्लॉगिंग कैसे की जाती है? कंटेन्ट राइटिंग और मार्केटिंग कैसे की जाती है? इससे आपको इंटरनेट से जुड़ी चीजों के बारे में हल्के-फुल्के ideas मिलने शुरू हो जाएंगे।

2. इसके बाद अगर आपको लगे कि आपमें digital marketing के field में आगे बढ़ने की क्षमता है तो आप किसी अच्छे institute से digital marketing का 6 महीने या 1 साल का course कर सकते हैं। इसमें आपको SEO, SEM, PPC, SMM, SMO जैसी चीजें पूरे details में समझाई जाएगी।

3. अपने कोर्स के पूरा हो जाने के बाद मिले certificate की मदद से आप चाहें तो किसी Internet या Digital Marketing Company में नौकरी के लिए apply कर सकते हैं। या फिर आप चाहें तो खुद का कुछ online काम start कर सकते हैं।

इस तरह digital marketing के फील्ड में आप अपना करियर बना सकते हैं।

Digital Marketer कैसे बनें?

डिजिटल मारकेटर बनने के लिए आप एक डिजिटल मार्केटिंग का course कर सकते हैं। इसके अलावा आप website, blogging और videos बनाने का काम करना शुरू कर सकते हैं। आप इंटरनेट पर नई-नई चीजें करना शुरू कर सकते हैं। आप SEO सीख सकते हैं।

एक अच्छा digital marketer बनने के लिए एक course से ज्यादा आपका जुनून matter करता है। इसलिए सिर्फ course ही ना करें बल्कि digital marketing के प्रति जुनूनी भी रहें।

डिजिटल मार्केटिंग का कोर्स करने के बाद आप किसी कंपनी में job के लिए अप्लाइ कर सकते हैं। आमतौर पर शुरुआत में आपको  १५ से २०००० रुपए तक salary मिलती है जो कि बाद में (अनुभव बढ़ने के साथ ही) 40000-50000 तक पहुँच जाती है।

इसके अलावा आप एक Digital Marketing Agency खोलकर खुद का Digital Marketing Business चला सकते हैं।

Digital Marketing Agency कैसे शुरू करें?

डिजिटल मार्केटिंग एजेंसी खोलने के लिए बेहतर होगा कि आपके पास कम से कम 5-6 साल किसी Digital Marketing Company में काम करने का experience हो। तभी आपकी agency अच्छे से चल सकती है।

सौमित्र काईति कहते हैं कि आप 10 साल तक छोटी, बड़ी, मीडियम हर तरह की digital marketing company में काम कीजिए, अनुभव कमाइए । उसके बाद अपनी खुद की डिजिटल मार्केटिंग कंपनी शुरू करें, निश्चित रूप से आपका सफलता रेट बहुत ज्यादा होगा।

Digital Marketing Job कैसे ढूंढें?

अगर आपने अपना digital marketing course पूरा कर लिया है और आपको certificate मिल चुका है तो अब आप अपनी नौकरी की तलाश शुरू कर सकते हैं।

डिजिटल मर्केटिंग job ढूंढने के लिए आप Online Job Sites जैसे- LinkedIn Jobs, Indeed पर जा सकते हैं। वहाँ पर आपको अपने फील्ड से जुड़ी सैकडों jobs दिख जाएंगे, जिनके लिए आप apply कर सकते हैं।

आप डिजिटल मार्केटिंग से संबंधित magzines में छपे विज्ञापनों के द्वारा digital marketing job ढूंढ सकते हैं।

Digital Marketing का भविष्य

आज digital marketing मार्केटिंग के traditional mediums को पछाड़कर तेजी से आगे निकल रही है और उम्मीद है कि आने वाले कई सालों तक digital marketing ऐसे ही आगे बढ़ती रहेगी।

Digital Marketing के प्रकार

डिजिटल मार्केटिंग कोई एक चीज नहीं है बल्कि यह बहुत सारी अलग-अलग चीजों का combination है। इनमें से हर चीज के बारे में लिखना तो possible नहीं है लेकिन ये कुछ चीजें हैं जिनके बिना digital marketing अधूरी है।

डिजिटल मार्केटिंग दो तरह की हो सकती हैं- ऑनलाइन डिजिटल मार्केटिंग और ऑफलाइन डिजिटल मार्केटिंग।

1. Online Digital Marketing

इस digital marketing में इंटरनेट का उपयोग किया जाता है। इसे Internet Marketing भी कहा जाता है।

ऑनलाइन डिजिटल मार्केटिंग के अंतर्गत ये चीजें आती हैं :-

कंटेन्ट मार्केटिंग (Content Marketing) :- लोगों को quality content provide कराकर उनका भरोसा जीतकर की जाने वाली मार्केटिंग को Content Marketing कहा जाता है।

सर्च इंजन ऑपटिमाइज़ेशन (SEO) :- बिना advertisement के गूगल में सबसे पहले रैंक करने के लिए जिन techniques का उपयोग किया जाता है उन्हें एक-साथ मिलाकर एसईओ कहा जाता है।

सर्च इंजन मार्केटिंग (SEM) :- एसईओ की ही तरह एसईएम का प्रयोग भी सर्च इंजनों में अच्छी रैंकिंग पाने के लिए किया जाता है। फर्क बस इतना है कि SEM में पैसे खर्च करने पड़ते हैं जबकि SEO बिना किसी खर्च के किया जाता है।

ब्लॉगिंग (Blogging) :- ब्लॉग पर कंटेन्ट लिखकर मर्केटिंग करने के तरीके को blogging कहते हैं।

विडिओ मार्केटिंग (Video Marketing) :- वीडियो के द्वारा किसी चीज की मार्केटिंग करने को video marketing कहा जाता है।

सोशल मीडिया मार्केटिंग (SMM) :- एसएमएम डिजिटल मार्केटिंग की एक ऐसी technique है जिसमें social media का यूज किया जाता है।

पे पर क्लिक मार्केटिंग (PPC Marketing) :- यह एक Ad Marketing Model है जिसमें कंपनी per click के हिसाब से publisher को pay करती है।

अफिलिएट मार्केटिंग (Affiliate Marketing) :- आजकल मार्केटिंग के सबसे बेहतरीन तरीकों में से एक तरीका है- Affiliate Marketing. इसमें कंपनियां Sales के हिसाब से लोगों (Affiliates) को pay करती है। यानि अगर कोई व्यक्ति कंपनी का कोई product या service बिकवा देता है तो कंपनी उसे कुछ % commission देती है।

ईमेल मार्केटिंग (Email Marketing) :- ईमेल collect करके लोगों को मेल भेजकर मार्केटिंग करने के तरीके को Email Marketing कहते हैं।

इन्स्टेन्ट मेसेजिंग मार्केटिंग (Instant Messaging Marketing) :- मार्केटिंग का यह तरीका काफी नया है। इसमें लोग अपने messanger apps जैसे- फ़ेसबुक मेसेन्जर पर किसी वेबसाइट को subscribe कर सकते हैं। इसे आप Mobile Monkey और Many Chat जैसे टूल्स के द्वारा कर सकते हैं।

2. Offline Digital Marketing

इंटरनेट के अलावा डिजिटल मार्केटिंग कई ऑफलाइन तरीकों से भी की जा सकती है :-

फोन मैसेज (SMS) :- आपके फोन नंबर पर भी कई बार तरह-तरह के promotional SMS आते होंगे। ये भी एक तरह की digital marketing technique (offline) है।

फोन कॉल (Phone Call) :- कई बार कंपनियां लोगों को फोन करके भी marketing करती हैं इसे Phone Call Marketing कहते हैं।

इलेक्ट्रॉनिक बिलबोर्ड (E-Billboards) :- आजकल बहुत सारी कंपनियां electronic hoardings लगाकर प्रचार करती हैं। यह भी एक तरह की digital marketing है।

रेडियो विपणन (Radio Marketing) :- रेडियो से की जाने वाली मर्केटिंग offline digital marketing के अंतर्गत आती है। हालांकि कई लोग इसे digital marketing नहीं मानते हैं वे इसे traditional marketing में गिनते हैं।

टेलीविजन मार्केटिंग (TV Marketing) :- यह टीवी के माध्यम से की जाने वाली मार्केटिंग है। हालांकि इसे भी कई सारे लोग digital marketing नहीं मानते हैं।

Digital Marketing के फायदे

ऐसे बहुत सारे लाभ हैं जो digital marketing से आपको हो सकते हैं। पेश हैं डिजिटल मार्केटिंग के सही इस्तेमाल से होने वाले फायदे-

  1. डिजिटल मार्केटिंग बहुत कम पैसों में की जा सकती है। डिजिटल मार्केटिंग को आप 50 या 100 रुपए से भी करना शुरू कर सकते हैं।
  2. डिजिटल मार्केटिंग से हम सिर्फ और सिर्फ उन्ही लोगों तक अपने Ads को पहुंचा सकते हैं जिन्हें हमारे products या फिर services की सच में जरूरत है। जबकि traditional marketing में ऐसा संभव नहीं है।
  3. डिजिटल मार्केटिंग करने में आसान है। साथ ही साथ हम आसानी से अपने digital marketing campaign में जरूरी बदलाव कर सकते हैं।
  4. डिजिटल मार्केटिंग में प्राय: Conversion Rate अच्छा होता है। यानि लोग जल्दी से ग्राहक बन जाते हैं।
  5. डिजिटल मार्केटिंग, मार्केटिंग का भविष्य है।

Digital Marketing कोर्स के बारे में जानकारी

बहुत सारे लोग जो digital marekting के क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हैं कुछ सवालों में ही उलझकर रह जाते हैं। यहाँ पर हमने digital marketing से जुड़े कुछ ऐसे ही सवालों का जवाब देने की कोशिश की है।

1. Digital Marketing Course क्या है?

डिजिटल मार्केटिंग आमतौर पर 3 महीने, 6 महीने या फिर एक साल का एक ऐसा course होता है जिसमें digital marketing के तौर-तरीकों के बारे में सिखाया जाता है।

इसमें आपको SEO कैसे करना है, SEM कैसे करना है और Social Media Marketing कैसे करनी है, जैसी चीजें सिखाई जाती हैं। अगर आप इस course को अच्छे ढंग से कर लेते हैं तो आप एक digital marketer के रूप में अपना career बना सकते हैं।

2. Digital Marketing कॉर्स कैसे करें?

डिजिटल मार्केटिंग का course आप अपने इलाके में मौजूद किसी अच्छे Institute से कर सकते हैं। ऐसे institute का पता आप गूगल सर्च करके लगा सकते हैं।

किसी institute को join करने से पहले उसकी अच्छे से जांच-पड़ताल करें। Make sure करें कि institute में अच्छे tutor हों और पढ़ाने के अच्छे साधन मौजूद हों। साथ ही साथ course में SEO, SEM, SMM, PPC जैसी चीजें जरूर मौजूद हों, यह निश्चित करें।

नोट :- डिजिटल मार्केटिंग कोर्स को आप ऑनलाइन वेबसाइटों (जैसे- Byjus, Unacademy आदि) से भी कर सकते हैं। ये websites कोर्स पूरा हो जाने के बाद आपको certificate भी देती हैं।

3. Digital Marketing Course की फीस कितनी है?

डिजिटल मार्केटिंग की कोर्स की फीस आपकी location, course duration और institute पर निर्भर करती है। मगर आमतौर पर इस कॉर्स की फीस 10,000 रुपए से लेकर 70,000 रुपए तक होती है।

COURSE DURATION :- डिजिटल मार्केटिंग कोर्स 3 महीने, 6 महीने और साल भर का हो सकता है।

4. भारत के Best Digital Marketing Course Institutes

ये कुछ पॉपुलर indian digital marketing institutes हैं जिनसे आप चाहें तो डिजिटल मार्केटिंग का कोर्स कर सकते हैं-

1. सिम्प्लीलर्न (Simply Learn)

2. एआईएमए (AIMA)

3. एनआईआईटी डिजिटल मार्केटिंग (NIIT Digital Marketing)

4. डीएसआईएम (DSIM)

5. ऐडुकार्ट (Edu Kart)

6. लर्निंग कैटालिस्ट (Learning Catalyst)

7. ऐडुप्रिस्टीन (Edu Pristine)

8. डिजिटल विद्या (Digital Vidya)

Digital Marketing से संबंधित कुछ प्रमुख शब्द

डिजिटल मार्केटिंग से जुड़े कुछ ऐसे शब्द हैं जो कई सारे लोगों को confuse करते हैं और डिजिटल मार्केटिंग में आए नए लोगों को इन शब्दों से जरूर वाकिफ होना चाहिए। पेश हैं ऐसे ही कुछ Hot Digital Marketing Terms-

PPC (Pay Per Click) :- एक Ad पर क्लिक होने पर कंपनी को जितना भुगतान पब्लिशर को करना पड़ता है उसे Pay Per Click कहा जाता है। Publisher की side से इसे Cost Per Click (CPC) कहा जाता है।

ROI (Return On Investment) :- जितना पैसा मार्केटिंग पे खर्च किया जाता है उसकी तुलना में जितना फायदा company को revenue में होता है उसे आरओआई कहते हैं। जैसे कि अगर आपने मार्केटिंग पर 1000 रुपए खर्च करते हैं और इससे आपको 2000 रुपए का फायदा होता है तो आपका ROI 100% हो जाता है।

CTR (Click Through Rate) :- टोटल देखने वाले लोगों में से जितने % लोग लोग किसी चीज पर क्लिक करते हैं उसे उसका सीटीआर कहते हैं।

SEO (Search Engine Optimization) :- सर्च इंजनों में वेबसाइट को अच्छी position पर रैंक करने की तकनीकों को एसईओ कहते हैं।

Sponsorship :- स्पॉन्सरशिप यानि किसी influencer को पैसे देकर अपनी marketing करवाना। मसलन, आप किसी बड़े blogger या फिर Youtuber को पैसे देकर अपने business की marketing करवा सकते हैं।

Bounce Rate :- आपकी वेबसाइट पर आने वाले लोगों का वह percent जो सिर्फ एक पेज पढ़ने के बाद आपकी वेबसाइट से बाहर चले जाते हैं ‘बाउंस रेट’ कहलाता है। जैसे- अगर आपकी वेबसाइट पर 100 लोग आते हैं और उनमें से 60 लोग सिर्फ एक पेज पढ़कर चले जाते हैं तो इस कन्डिशन में आपकी साइट का बाउन्स रेट 60% होगा।

Keyword :- टॉपिक को इंटरनेट की भाषा में कीवर्ड कहा जाता है।

Clickbait :- लोगों से अपनी वेबसाइट पर क्लिक करवाने के लिए गलत तरीकों का use करने को क्लिकबेट कहते हैं।

Landing Page :- जब आप डिजिटल मार्केटिंग के माध्यम से लोगों को अपनी वेबसाइट पर भेजते हैं तो आपके लिंक पर क्लिक करने के बाद आपकी वेबसाइट का जो पेज सबसे पहले खुलता है और लोगों को show होता है उसे वेबसाइट का लैन्डिंग पेज (Landing Page) बोलते हैं। लैन्डिंग पेज यानि जिस पेज पर लोग land करते हैं यानि उतरते हैं।

लैन्डिंग पेज एक तरह से आपकी वेबसाइट का first impression होता है, इसलिए अपने digital marketing campaign इसे सफल बनाने के लिए इसे अच्छी तरह से जरूर optimize किया जाना चाहिए।

Content :- सरल शब्दों में, जिस चीज से लोगों को जानकारी मिलती है उसे Content कहते हैं।

Backlink :- जब किसी वेबसाइट से हमारी साइट को link मिलता है तो उसे बैकलिंक बोलते हैं।

Domain Authority (DA) :- किसी वेबसाइट की गूगल की नज़रों में कितनी इज्जत है यह हमें D.A से पता चलता है।

Alexa Rank :- अलेक्सा रैंक बताती है कोई साइट popularity के मामले में दुनिया के कौन-से नंबर की साइट है।

डिजिटल मार्केटिंग और ऑनलाइन मार्केटिंग में क्या अंतर है?

डिजिटल मार्केटिंग किसी भी electronic device के माध्यम से की गई मार्केटिंग है- जैसे- फोन, कंप्यूटर, टैबलेट, इंटरनेट, टीवी, इलेक्ट्रॉनिक बिलबोर्ड।

जबकि ऑनलाइन या इंटरनेट मार्केटिंग digital marketing का ही एक हिस्सा है जिसमें सिर्फ internet का इस्तेमाल करके marketing की जाती है।

अंतिम शब्द

आज डिजिटल मार्केटिंग में करियर बनाने और पैसा कमाने की अपार संभावनाएँ हैं बशर्तें कि हममें internet के प्रति गहरा जुनून हो। डिजिटल मार्केटिंग के फील्ड में अच्छा करने के लिए हमारा इससे लगातार updated रहना जरूरी है।

तो दोस्तों यही था “डिजिटल मार्केटिंग हिन्दी में/Digital Marketing in Hindi” पर हमारी आज की पोस्ट। यह आर्टिकल आपको कैसा लगा हमें comment के माध्यम से जरूर बताएं और आपका कोई सवाल हो तो उसे भी जरूर पूछें।

5 thoughts on “Digital Marketing का काम कैसे शुरू करें? Digital Marketing in Hindi”

Leave a Comment