Google क्या हैं? जानिए गूगल की पूरी जानकारी – Know Google in Hindi

0
(0)
Google
ऐसा जमाना आ चुका है जहां आप किसी को नहीं कह सकते हैं कि यह मेरे से कम जानते हैं इसका सबसे बड़ा कारण है इंटरनेट और इसमें सबसे अहम भूमिका है सर्च-इंजन और इससे जुडी कंपनी की आपको भी जरूर मालूम होगा कि आखिर यह गूगल क्या है (What is Google in Hindi) और गूगल का फुल नाम क्या है?
जिसके पास स्मार्टफोन है वह इसका इस्तेमाल करता है और चुटकी बजाते ही किसी भी जानकारी तक पहुंच जाता है। भले ही दुनिया के किसी हिस्से में भी कोई घटना घटी हो उसकी जानकारी भी हमें यह दे देता है लेकिन आज भी कई ऐसे लोग हैं जिन्हें सच में नहीं पता कि आखिर गूगल क्या चीज है तो मैं आपको बता दूं कि।

यह एक सर्च इंजन है जिसमें हम किसी भी तरह के जानकारी को उसके कीवर्ड या शब्द के द्वारा ढूंढ कर निकालते हैं या खोजते हैं। इसीलिए इसे एक सर्च इंजन कहा जाता है।
मनोरंजन के लिए हम यूट्यूब में रोज़ कुछ वीडियोस देखते हैं, जानकारी के लिए इसी में ही सर्च करते हैं और किसी नए जगह में घूमने के लिए इसके मैप की मदद लेते हैं। इन सभी एक कॉमन चीज़ है वो है गूगल। तो आइए अब हम जानते हैं इसके बारे में की गूगल किसने बनाया है और ये किस देश की कंपनी है।

हिस्ट्री ऑफ़ Google 

Google.com नाम के Domain को 15 सितंबर, 1997 के बाद पंजीकृत कराया गया था, और कंपनी की शुरुआत 4 सितंबर, 1998 को की गई थी।
क्या आप को पता है आज की तरह दिखना वाला google 1998 में कैसा दिखता था ? नीचे दी गई तस्वीर में देखे 1998 को जब गूगल लांच किया गया था तब व कुछ इस तरह दिखता था।
इंटरनेट पर सबसे अच्छे खोज इंजनों में से एक होने के साथ, Google ने Google Maps और Google Local जैसी अन्य कई अन्य सेवाओं को भी शामिल किया है।
 ताकि अधिक अच्छे परिणाम उपलब्ध कराए जा सकें। अपनी स्थापना के एक साल के भीतर ही गूगल 2.5 करोड़ से ज्यादा पेज index कर लिए थे।
गूगल की सफलता को देखकर Sun Micro System के founder एंडी बेचल्स्हिम्स ने एक लाख डॉलर का फण्ड दिया हालाँकि गूगल उस समय तक किसी भी प्रकार से कमाई नहीं कर रहा था। इसके बाद गूगल internet की दुनिया में आगे बढ़ता चला गया।
लेकिन 1999 में एक समय ऐसा भी आया जब इसके संस्थापकों ने इसे बेचने का निर्णय लिया। वो इसे सिर्फ इसलिए बेचना चाहते थे क्यूंकि इस प्रोजेक्ट के कारण वो अपनी पढाई पर धयान नहीं दे पा रहे थे।
उन्होंने Excite कंपनी के संस्थापक Gref Bell को 10 लाख डालर का ऑफर की जिसे Gref Bell ने एक बेकार प्रोजेक्ट बताकर खरीदने से मना कर दिया।

Google की खोज

Google की खोज
Google की खोज सन 1996 में सर्गेई ब्रिन और लैरी पेज द्वारा स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय में एक शोध परियोजना के रूप में इंटरनेट पर फाइलें ढूंढने के लिए शुरू किया गया था। शुरुआत में इन्होने इस परियोजना का नाम BACKRUB तय किया था।
लेकिन लैरी और सर्गे ने बाद में इस सर्च इंजन का जो नाम तय किया वो था Googol. Googol एक मैथमेटिकल शब्द है जिसका मतलब 1 के पीछे 100 शून्य होता है. जैसा कि पहले बताया कि Google शब्द googol से लिया गया था, लेकिन बोलचाल में Googol शब्द Google जैसा प्रतीत होता था।
इसलिए Googol को बदलने और उसके बारे में निर्णय लेने के लिए अपने search engine का उन्होंने जो नाम तय किया, वो आज Google के नाम से पूरी दुनिया में जाना जाता है।

Google का परिचय 

असल में देखा जाये तो गूगल एक मल्टीनेशनल टेक्नोलॉजी पब्लिक कंपनी है, जो इंटरनेट से जुडी कई प्रकार की सेवाएं और उत्पाद लोगों को सेवा के रूप में उपलब्ध करती है।
ये सेवा के रूप में ईमेल, स्टोरेज ड्राइव, ऑनलाइन एडवरटाइजिंग टेक्नोलॉजी, सर्च क्लाउड कंप्यूटिंग, सॉफ्टवेयर, एप्लीकेशन प्लेस्टोर, हार्डवेयर आदि प्रदान करती है।
ये तो आप भी मानेंगे की आजकल हमलोग हर वक़्त गूगल से जुड़े हुए रहते हैं। आप अगर एंड्राइड का स्मार्टफोन इस्तेमाल करते हैं तो जो की गूगल के द्वारा दी जाने वाली सेवा है।
भारत में जब से इंटरनेट की सेवा सस्ती हुई है तब से लोगों के ऑनलाइन वीडियो देखना भी आसान हो चूका है और लोग मनोरंजन के लिए हर दिन यूट्यूब में अपनी मनपसंद वीडियो देखते हैं।
इंटरनेट की दुनिया में गूगल को राजा कहा जाये तो गलत नहीं होगा। Alexa दुनिया के सभी वेबसाइट की ट्रैफिक के अनुसार लिस्ट बनाती है जिसमे गूगल नंबर 1 पर है क्यों की इसे सबसे ज्यादा visit किया जाता है।
इसके प्रोडक्ट जैसे यूट्यूब नंबर 2 पर और ब्लॉगर के साथ बाकि सभी इस लिस्ट में टॉप 100 में ही होते है।
Google में हर सेकंड 40,000 कीवर्ड सर्च किये जाते है। जिसका मतलब है की एक दिन में 5.7 करोड़ सर्च queries ये प्रोसेस करता है।
अब तो आप समझ गए होंगे की इसे सबसे ज्यादा ट्रैफिक कैसे मिलती है। गूगल के माध्यम से लोगों को अनेक तरह जानकारी सर्च करने की सुविधा दी जाती है। गूगल हमे वेबसाइट, फोटो, न्यूज़, मैप इत्यादि बहुत तरह के जानकारी लाकर के देता है।
जब हम Google.com का होमपेज खोलते हैं तो देखने में बहुत ही साधारण इंटरफ़ेस लगता है।
लेकिन इस साधारण इंटरफ़ेस के साथ ये अभी पुरे दुनिया में हर जगह सबसे अधिक खुलने वाला वेबसाइट है जिससे लोग बहुत तरीके से मदद लेते हैं और अपना काम पूरा करते हैं।
भले ही अपने घर के अंदर बैठ कर कंप्यूटर या फोन में कुछ कर रहे हों, ऑफिस में काम करते समय कुछ जानकारी लेनी हो, कहीं पर भी घूमते वक़्त गूगल मैप में लोकेशन देखना हो, हर तरह से गूगल का ही इस्तेमाल करते हैं।
आज इंटरनेट की दुनिया में गूगल राजा है। ये इंटरनेट से जुड़ी हर तरह की सेवा देता है जिससे लोगो को फायदा होता है। इसीलिए ये कंपनी सबसे आगे है।
लोगों की जरूरत के अनुसार उनकी संतुष्टि के लिए कई प्रयोग किए और नई-नई सेवाओं के साथ यह कस्टमर्स को रिझाने में कामयाब होता है।
यह अपने ग्राहकों को और सुधरे हुए और नई तकनीक से भरपूर सेवाओं को प्रदान करता है जिससे कि कंस्यूमर को फायदा हो सके और उनका काम भी आसान हो सके।
यही वजह है गूगल के नंबर वन बने रहने का जो समय के साथ परिवर्तन करता है वही मार्केट में टिका हुआ होता है और यह गूगल हमेशा से करता आया है और उम्मीद है करता रहेगा।
लेकिन इसे किसने बनाया इसकी शुरुआत कब कैसे और कहाँ से हुई ये बहुत कम लोग जानते हैं। जिसमे आज आप भी शामिल हो जाएंगे।

Google किसने बनाया है?

ये बहुत लोग जानने को उत्सुक होते हैं की आखिर जो हमारे सवालों का जवाब पलक झपकने के पहले हमारे सामने लाकर रख देता है, ऐसी वेबसाइट बनाने का ख्याल किसके दिमाग में आया था।
आखिर वो कौन सी स्थिति थी जिससे प्रेरित होकर गूगल का आविष्कार किया गया।
तो अब मैं आपको बता देता हूँ गूगल को 2 लड़को ने मिलकर बनाया है जिनके नाम Larry Page और Sergey Brian है।
यही दोनों के संस्थापक और आविष्कारक है। इन दोनों की बदौलत ही लोगों की जीवन शैली बदल चुकी है। हर जानकारी का खज़ाना हाथों में पहुंचा गया, काम करने का तरीका बदल गया और बहुत सी चीज़ें आसानी से हासिल होने लगी।
जब दोनों कैलिफ़ोर्निया में स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट्स थे और अपनी पीएचडी की पढाई कर रहे थे तब उन्होंने इस सर्च इंजन को अपने प्रोजेक्ट के रूप में लिया और काम करना शुरू कर दिया।
Larry Page और Sergey Brian का उस वक़्त का बस एक प्रोजेक्ट इतनी बड़ी कंपनी के रूप में बनकर उभरेगा इसकी कल्पना तो उन्होंने ने भी नहीं की होगी। इसमें कोई शक नहीं इंटरनेट के इतिहास में से एक गूगल सबसे बड़ा अविष्कार है।

Google क्या है ?

Google क्या है ?
बहुत बार आपके मन में ख़्याल आता होगा कि Google का पूरा नाम क्या है। लेकिन क्या आप जानते है कि पहले गूगल का नाम Googol रखा गया था जिसका अर्थ है 1 के बाद 100 ज़ीरो जिसका उद्देश्य बड़ी मात्रा में जानकारी प्रदान करना था।
लेकिन एक वर्तनी ग़लती के कारण Googol की जगह Google शब्द की उत्पति हुईं जिसके कारण Googol का नाम बदलकर Google रखा गया मतलब गूगल जो दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी जो करोड़ो रूपये हर दिन कमाती है उसका नाम ग़लती से रखा गया था।
Google शब्द 6 Letter से मिलकर बना है और गूगल की तरफ से Google full form की कोई officially जानकारी नही दी गई है लेकिन जो Google full form आपको देखने को मिलती है वह कुछ इस प्रकार है।
G – Global
O – Organization
O – Oriented
G – Group
L – Language
E – Earth
अब आप अच्छी तरह समझ गये होंगे की किसी तरह Googol शब्द से Google की उत्तप्ति हुई और कैसे Google कंपनी का नाम रखा गया आज जिसकी full form है “Global Organization Of Oriented Group Language Of Earth”

Google कैसे काम करता है ?

Google एक Search Engine है जो हमारे द्वारा सर्च की गयी जानकारी की सही और तेजी से information देने का काम करता है।
जो Result आपको सबसे पहले देखने को मिलते है उसके लिए गूगल बहुत सारे मापदंडो का इस्तेमाल करता है जिसे Search Engine Optimization कहा जाता है।
गूगल मुख़्य रूप से User, Publisher और advertiser’s को ध्यान में रखकर काम करता है मतलब जो लोग गूगल पर Content डालते है उन्हें Publisher या Blogger कहा जाता है।
और जब आप कुछ पढ़ते है तो बीच-बीच में जो विज्ञापन आते है उन्हें Advertiser कहा जाता हैं और गूगल का इस्तेमाल करने वाल हर व्यक्ति User कहलाता है।
गूगल कंपनी आपको internet से Online पैसे कमाने के कई तरीक़े प्रदान करती है साथ ही आप गूगल कंपनी से भी पैसे कमा सकते है इसके लिए गूगल आपको कई सारे प्लेटफॉर्म उपलब्ध करती है।
गूगल समय के साथ अपने Google Search Engine में अप्डेट्स करता रहता है ताकि वह अपने यूज़र को एक बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें इसलिए आने वाले समय में आपको गूगल पर कई सारे बदलाव देखने को मिल सकते है।

गूगल अपनी कमाई कैसे करती है?

ये कंपनी अपनी किसी भी सेवा को लोगों को देने के लिए पैसे चार्ज नहीं करता।
भले आप इसके सर्च बॉक्स में जाकर जो भी सर्च  करो आपको ये उसके वेबसाइट तक पहुंचा देता है, यूट्यूब में अनगिनत वीडियोस देखते हैं (paid छोड़कर) प्ले स्टोर से मनचाहा एप्प  डाउनलोड करते हैं, मेल भेजने और रिसीव करने के लिए जीमेल सेवा ये सभी बिलकुल मुफ्त में हमे मिलता है।
सोचने वाली बात ये है की आखिर इतनी सारी अनगिनत सेवाएं देने के बावजूद भी गूगल कमाई करने में नंबर 1 कैसे है?
तो इसका जवाब है इसकी कमाई का जरिया भी आप ही हैं। जी हाँ “आप” वो कैसे चलिए मैं आपको समझाता हूँ. गूगल एक बहुत advertising कंपनी है और इसके सबसे बड़े प्रोडक्ट आप ही हैं।
इसकी 96% जो कमाई होती है वो addvertisment यानि विज्ञापन के माध्यम से ही होता है। हर दिन गूगल सर्च क्वेरीज के रूप में 1 billion रिजल्ट पूरी दुनिया के लोगों को दिखाता है।
इसके साथ ही ये कई billion विज्ञापन भी साथ में लोगों को दिखाता है। का राज़ इनके काम करने के scale में छुपा हुआ है।
जब आप ऑनलाइन किसी प्रोडक्ट के बारे में सर्च करते हैं और वहां से वापस भी आ जाते हैं तो वो उसे sense कर लेता हैं।
और आप जब तक ऑनलाइन रहेंगे वो आपके इंटरेस्ट के अनुसार  पर आधारित विज्ञापन दिखाएंगे और इस तरह आप उस प्रोडक्ट या फिर सेवा को खरीद लेते हैं। दुनिया में इतनी जनसँख्या है और हर हर कोई अपने सभी कामों को ऑनलाइन करने की सोचते हैं।
वो आपकी इंटरेस्ट को समझकर आपकी सेवा में लग जाता है और जहाँ भी जाते हैं आपके इच्छा के अनुसार आपको recommendation देता है। ये विज्ञापन सेवा कैसे देती है चलिए इस पर एक नज़र डाल लेते हैं।

कंपनियां अपनी सेवा को लोगों तक पहुँचाने के लिए सर्च रिजल्ट में खुद का प्रचार करना चाहते हैं।
वो Ads में जाकर अपनी कंपनी से जुड़े सभी जानकारी देते हैं फिर सर्च रिजल्ट के माध्यम से कंपनी की केटेगरी के अनुसार उनके विज्ञापन उनमे इंटरेस्ट रखने वाले लोगों को दिखाए जाते हैं।
जिन में लोगों के क्लिक करने के बाद ही उसे पैसे मिलते हैं।

Google Adsense

एडसेंस पब्लिशर को ये अनुमति देता है की वो इससे जुड़ सके और अपने वेबसाइट पर विज्ञापनों को लोगों को दिखाये। आज कल बहुत सारे न्यूज़ वेबसाइट और ब्लॉगर अपनी वेबसाइट में इसके विज्ञापन को दिखाते हैं।
इस तरह के advertisement में cost per thousand impression के रूप में पैसे लेती है। साथ ही पब्लिशर को भी इसमें कुछ शेयर मिलता है।

Google के CEO कौन है ?

Google के CEO कौन है ?
इस के CEO भारतीय मूल के सुन्दर पिचाई हैं। जब कोई इंसान दुनिया के ऑनलाइन इतने बड़े कंपनी में काम करता है तो जरा सोचिये की उनकी साल भर की कमाई कितनी होगी।
जी हाँ आप भी जानकार चौंक जायेंगे की सुन्दर पिचाई की हर साल करीब 1200-1300 करोड़ रूपये की कमाई होती है।

गूगल किस देश की कंपनी है?

कई लोगों के मन में ये सवाल अक्सर आता है की गूगल किस देश की कंपनी है। इस में आपको कंफ्यूज होने की बिलकुल भी जरुरत नहीं है  क्यों की आज आप इसके बारे में जान जायेंगे।
यह अमेरिका की कंपनी है जो इसके राज्य कैलिफ़ोर्निया में स्थित है।

Google भारत में किस तरह पॉपुलर हुआ ?

वैसे तो इस अमेरिकन कंपनी ने पुरे भारत में अपना सिक्का जमा रखा है लेकिन क्या सभी को पता है की ये भारत में कब से इस्तेमाल होना शुरू हुआ है।
शायद नहीं..
इंटरनेट को भारत में आये हुए 24 साल हो गए हैं। पहली बार 15 अगस्त 1995 को भारत में इंटरनेट का इस्तेमाल किया गया था।
लेकिन जब मैं पहली बार इंटरनेट का इस्तेमाल करने के लिए एक साइबर कैफ़े गया तो वहां पर मुझे सुनने को मिला की याहू में ईमेल ID बनाना पड़ेगा।
उस वक़्त हमारे देश में याहू काफी प्रसिद्ध हुआ करता था और सब उसी का इस्तेमाल करते थे।
चैटिंग करने के लिए भी लोग याहू चैटरूम का इस्तेमाल करते रहते हैं। इंटरनेट या साइबर कैफ़े में उस वक़्त हर घंटे के 10-20Rs  चार्ज देने पड़ते थे।
उस वक़्त इंटरनेट का इस्तेमाल सिर्फ कंप्यूटर सिस्टम में ही करने  सुविधा थी। टेलीफोन लैंडलाइन के जरिये ब्रॉडबैंड इंटरनेट चलता था। उस वक़्त भारत में विदेश संचार निगम लिमिटेड इंटरनेट की सुविधा लेकर आया।
पहली बार गूगल के बारे में तब पता चला एयरटेल की तरफ से मिलने वाले मोबाइल में मोबाइल ऑफिस के नाम से सेटिंग को सेव करना होता था।
उसके होमपेज में google.com का address डालना होता था। उसी वक़्त से मैंने गूगल को जाना और इस तरह एयरटेल प्रयोग करने वाले हर यूजर को इस के बारे में पता चलने लगा।
जैसा की हम हर दिन देख रहे हैं ये कंपनी नई नई सेवाएं ला रहा है। हर साल ये कुछ न कुछ नयी सेवा जरूर लेकर आता है। चलिए जानते है की ये किस तरह पूरी दुनिया में छा चूका है।

Google Services 

Google Services
Search :- गूगल सर्च इंजन google का सबसे पहला और सबसे चर्चित प्लेटफ़ॉर्म है जहाँ लोग किसी भी जानकारी इत्यादि को खोज सकते है।
Android :- स्मार्टफ़ोन के लिए सबसे व्यापक रूप से प्रयोग होने वाला ऑपरेटिंग सिस्टम।
Blogger :- अपनी Blog website बना सकते है।
Chrome OS :- लैपटॉप और पोर्टेबल कंप्यूटरों के लिए Google द्वारा विकसित ऑपरेटिंग सिस्टम।
Gmail :- 1 जीबी से अधिक भंडारण के साथ नि: शुल्क ऑनलाइन ई-मेल सेवा।
Google+ :- यह Google की social networking site है जहाँ यूजर पिक्चर, मेसेज, वेबसाइट विडियो इत्यादि शेयर कर सकते है। फ़िलहाल यह सेवा google द्वारा बंद कर दी गयी है।
Google AdSense :- एक ऐसी सेवा जो website publishers या blogger को अपनी साइट पर विज्ञापन दिखाने के लिए पैसे देती है।
AdWords :- ऐसी सेवा जो किसी भी एडवरटाइजर के लिए है।
Analytics :- Google Analytics किसी भी व्यक्ति को अपनी वेबसाइट पर आने विज़िटर की निगरानी और रिपोर्ट बनाने की अनुमति देता है।
Google Books :- Google की एक शानदार सेवा जिसमें हजारों पुस्तकों को खोजा जा सकता है।
Chrome :- सबसे ज्यादा popular desktop Internet browser.
Google Drive :- Google की क्लाउड स्टोरेज सेवा 24 अप्रैल 2012 को को चालू हुई थी. जो उपयोगकर्ताओं को Google क्लाउड में अपने दस्तावेज़ों और फ़ाइलों को देखने, और सुरक्षित रखने की अनुमति देती है।
Google Earth :- एक शानदार सॉफ्टवेयर प्रोग्राम जो एक व्यक्ति को धरती पर लगभग हर जगह देखने की अनुमति देता है, निर्देश प्राप्त करता है, करीबी दुकानों और रुचि के स्थानों को खोजता है, और बहुत कुछ।
Google Maps :- गूगल मैप की सहायता से आप किसी भी जगह को बड़ी आसानी के साथ खोज सकते है।
Google Play :- इसे हम प्ले स्टोर के नाम से भी जानते है जहाँ कोई भी android app, games, themes सर्च कर डाउनलोड कर सकते है।
Translator :- किसी भी भाषा को या वेबसाइट के पेज को अपनी भाषा में ट्रांसलेट करने की अनुमति देता है।
Google Voice :- इसकी सहायता से किसी भी चीज को आप सिर्फ बोलकर ही सर्च कर सकते है।
YouTube :- YouTube गूगल की बहुत ही एक सर्विस है जिसे को गूगल ने इसे 2006 में ख़रीदा था. गूगल खुद से कोई भी विडियो you tube अपलोड नहीं करता है बल्कि इसके यूजर ही you tube पर विडियो अपलोड कर पैसे कमाते है।
Input Typing Tool :- यह गूगल का टाइपिंग टूल है जिसका प्रयोग कर के हम अपनी भाषा में Hindi Typing करते है।
Google Duo :- यह एंड्राइड और iOS डिवाइस पर हाई क्वालिटी video calling कराने वाला एप्प है।
Google Lense :- किसी भी इमेज को स्कैन कर उसकी लोकेशन वगैरह की जानकारी पता कर सकते है।
Google Pay (TEZ) :- UPI द्वारा money transfer, mobile recharge, electricity bill pay इत्यादि जैसी सुविधा प्रदान करता है।

गूगल को हिंदी में क्या कहते है?

गूगल एक मैथमेटिकल शब्द है जिसका अर्थ 1 के पीछे 100 शून्य होता है।

Backrub, Page rank और सर्च रिजल्ट की शुरुआत

Backrub, Page rank और सर्च रिजल्ट की शुरुआत
इन सब की शुरुआत 1995 के गर्मी के मौसम में हुई थी जब Larry Page और Sergey Brian की मुलाक़ात स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में हुई।
से दोनों ही बहुत इंटेलीजेंट थे इसीलिए उस वक़्त उन के विचार मिलते नहीं थे लेकिन फिर भी दोनों काफी डिस्कशन करते थे। अंत में दोनों का झगड़ा पार्टनरशिप पर आकर के ख़तम हुआ।
दोनो ने मिलकर सर्च इंजन बनाया जो पेज को रैंक देने के लिए बैकलिंक को जरुरी मानते थे। इसीलिए उन्होंने इसे BACKRUB नाम दिया।
ये उन पेजेज को हाई रैंक देता था जो शब्द (words) सबसे ज्यादा बार सर्च किये जाते थे और वो जिस पेज में होते थे। इसके अलावा भी ये उन पेजेज को रैंक देते थे जिन के बैकलिंक्स अधिक होते।
1997 में दोनों ने BACKRUB का नाम बदल के Googol शब्द से प्रेरित होकर जैसा की हमने पहले ही बताया है, Google कर दिया।
अगस्त 1998 में SUN Microsystems के Andy Bechtosheim ने Larry और Brian को $100000 का चेक दिया जिससे ऑफिसियल Google Inc. कंपनी बनी और garage से निकल के अपने पहले ऑफिस तक पहुंची।
फिर 1998 में अपना पहले Doodle लांच किया जो  Burning Man festival in Navada के रूप में था. तब से लगातार ये नए थीम्स और सेलेबटरेशन Doodle के रूप में हमें दिखता है।
इसने 2001  में अपना पहला इंटरनेशनल ऑफिस टोक्यो में बनाया और फिर 3 साल बाद नया हेडक्वॉर्टर बना जिसे आज हम Googleplex के नाम से जानते हैं।
इसके बाद से कंपनी ने पीछे मुड़ के कभी नहीं देखा। इसने एक के बाद एक नयी सेवाएं लांच की जो सिर्फ users के फायदे के लिए थी। इसी में जीमेल सर्विस भी शामिल है। जिसमे डाटा स्टोर करने के लिए काफी स्पेस दिया गया।
2005 से ये लगातार नयी नयी सर्विस लांच करता रहा है जैसे Maps और Analytics और 2006 में गूगल Calender और Translator.
इस की मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम एंड्राइड 2007 में लांच की गयी और अभी सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाले ब्राउज़र क्रोम को 2008 में शुरू किया गया।
इसी बीच गूगल ने सबसे बड़े वीडियो शेयरिंग वेबसाइट यूट्यूब को 2006 में खरीदकर अपने बिज़नेस को और आगे बढा दिया।
इस ने एक लैब को लांच किया जिसे गूगल X  के नाम से जाना जाता है, जो delivery drones और self driving cars को डेवेलोप करने का काम करती है।
इस तरह ये दुनिया का सबसे पॉपुलर सर्च इंजन बन गया। यहाँ तक की गूगल शब्द को लेक्सिकन में एक “Verb” के रूप में शामिल किया गया।
इसका मतलब होता है “वर्ल्ड वाइड वेब में कुछ सर्च करना.”

सर्च इंजन की परिभाषा

सर्च इंजन एक ऐसा प्रोग्राम होता है जो आपके द्वारा डाले गए कीवर्ड के आधार पर इंटरनेट में सर्च करता है आपके लिए वेब पेजेज को ढूंढ कर लाता है।
  1. सर्च इंजन के प्रोग्राम में boolen operators, search filed और display format होता है।
  2. इंटरनेट में जितने भी वेबपेजेस होते हैं उन्हें spider या web crawlers read करते हैं।
  3. सर्च इंजन डेटाबेस का भी इस्तेमाल करता है।
  4. कीवर्ड के relevancy के आधार पर algorithm का इस्तेमाल कर के रिजल्ट को ranking देता है।

 

Google के फायदे

  1. हमे हर तरह की जानकारी हमे अपने स्मार्टफोन में आसानी से मिल जाती है बस हमे सर्च बॉक्स में लिखना है की हम किसकी जानकारी लेना चाहते हैं।
  2. अगर हमे किसी नए जगह में जाना होता है तो गूगल मैप की मदद से उस जगह पर बिना किसी परेशानी के पहुँच सकते हैं।
  3. अगर हम कोई बिज़नेस करते हैं और उसे अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाना चाहते हैं तो इसके ads के माध्यम से अपने बिज़नेस को फैला सकते हैं।
  4. यूटूबर, ब्लॉगर, मोबाइल एप्प डेवलपर इसके माध्यम से अपने कंटेंट को लोगों तक पहुंचा के पैसे कमा सकते हैं।

 

Google से जुड़े कुछ तथ्य

Google से जुड़े कुछ तथ्य
  1. जब गूगल को लॉन्च किया गया तो उसके पहले से ही करीब दो हजार Doodles गूगल ने तैयार कर रखें ताकि उनका हर यूजर उनके डूडल देखकर सेटिस्फाइड हैं।
  2. जब हमें गूगल खोलना होता है तो साधारण तौर पर हम google टाइप करते हैं लेकिन अगर आप googel, gooogle, gogle करके भी इसे खोलेंगे तो गूगल ही खुलेगा।
  3. गूगल तो पूरी दुनिया इस्तेमाल करती है इसीलिए उसे अलग-अलग 80 भाषाओं में लोग उपयोग कर सकते हैं।
  4. गूगल पर ट्रांसलेट करने वाला ऐप करीब 100 भाषा में लोगों को अनुवाद कर सकता है।
  5. Yahoo कंपनी की CEO गूगल में काम करने वाली पहली महिला बनी।
  6. विश्व में सबसे अधिक उपयोग होने वाला सर्च इंजन गूगल है लेकिन दूसरे नंबर पर जो सर्चिंग इंजन आता है वह है यूट्यूब और यह गूगल का ही प्रोडक्ट बन चुका है।
  7. गूगल अपनी कर्मचारियों के लिए जो भी खाना तैयार कर आता है वह 200 फीट की दूरी पर ही होता है।

Google क्या है व्हाट इज गूगल?

यह एक सर्च इंजन होने के अलावा एक अंतरराष्ट्रीय पब्लिक कंपनी है जो विभिन्न सेवाएं अपने ग्राहकों को प्रदान करती है।

गूगल किसने बनाया और कब?

इस कंपनी को स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी से पीएचडी 2 छात्रों Larry Page और Sergey Brin ने बनाया था इस कंपनी को 4 सितम्बर 1998 को एक संगठन के रूप में निर्माण किया गया था।

Google का मालिक कौन है?

वर्तमान की बात करें तो सुंदर पिचाई इसके सीईओ हैं।

Google का मुख्यालय कहाँ है?

इसका मुख्यालय संयुक्त राज्य अमेरिका के कैलीफोर्निया राज्य के माउंटेन व्यू में स्थित है।

Google की खोज कैसे हुई?

Larry Page और Sergey Brin 1995 में इसके पुराने संस्करण सर्च इंजन को बनाया था उसका नाम Backrub रखा था क्योंकि यह वेबसाइट को उनके बैक लिंक के आधार पर रैंकिंग देता था।
फिर उन्हें लगा कि यह नाम सही नहीं है और कोई नया नाम ढूंढा जाए इसी वजह से उन्होंने इस सर्च इंजन का नाम बदलकर गूगल रख दिया जो कि Googolplex से संबंधित है।

संक्षेप में

दोस्तों मैं उम्मीद करता हूँ की आपको ये  जानकारी बहुत पसंद आई होगी। अब आप किसी को भी इस से जुड़े सवालो जैसे  गूगल क्या है (What is Google in Hindi) और गूगल का फुल नाम क्या है (History of Google in Hindi) का जवाब दे सकते है। साथ ही गूगल किस देश की कंपनी है ये भी आपने जाना।
गूगल किसने बनाया है और इससे जुड़े किसी भी प्रश्न का उत्तर पाने के लिए हमे नीचे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं।
ये इतनी बड़ी कंपनी है की हर कोई इससे जुड़ना चाहता है। वैसे गूगल अपने लैब में अब ऑटोमेशन में भी काम कर के कुछ अलग करने में लगा है। अगर ये पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

Leave a Comment