R-DBMS क्या हैं? R-DBMS के बारें में विस्तार से जानिए?

4.3
(54)

What is R-DBMS? Know R-DBMS in Details in Hindi?


 R-DBMS
R-DBMS
R-DBMS का Full Form होता है “Relational Database Management System.” R-DBMS एक प्रकार का DBMS होता है जिसे की Specifically Design किया गया होता है। Relational Databases के लिए ये आसान बनाता है कुछ Specific Values को Locate और Access करने के लिए Relational Database का प्रयोग किया जाता हैं। 


हिस्ट्री ऑफ़ R-DBMS

Relational Database को Edgar (E. F.) Cod d ने Develop किया था। 1960 के दशक में Dr. Cod d Existing Database पर काम कर रहे थे। अपनेअनुभव के आधार पर उन्होंने पाया कि जितने भी Database उस समय प्रचलित थे, वे सभी काफी जटिल व अप्राकृतिक तरीकों से Data को Database में परिवर्तित करते थे। 
चूंकि वे एक गणितज्ञ थे, इसलिए उन्होंने विभिन्न प्रकार के Relations को Set Theory के आधार पर Mathematical Form में Develop करना शुरू किया और अपने Concept को और Extend करके उन्होंने Relational Database
Develop किया और 1970 में लोगों के सामने लाया।
Mathematical Set Theory में Rows (Tuple) व Columns (Attributes) से बनी एक Table को एक Relationके रूप में Define किया जाता है। Relation को दूसरे शब्दों में हम Table भी कह सकते हैं। ये Definition केवलइस बात को Specify करता है कि किसी Table के हर Column में क्या Store किया जाएगा, लेकिन उसमें Actual Data को Specify नहीं किया जाता है। 
जब हम इस Table में Data के Rows Include करते हैं, तब हमें उस Relation का एक Instance प्राप्त होता है। उदाहरण के लिए हम किसी Student के Relation को Represent कर सकते हैंl

 

Cod d’s 12 नियम

Dr Edgar F. Cod d, Database System के Relational Database पर अपने व्यापक Research के बाद, अपने ही Rules के बारह, जो उनके अनुसार, एक Database क्रम में पालन करना चाहिए एक सच्चे Relational Database के रूप में माना जा करने के लिए के साथ आया था। इन Rules को किसी भी Database प्रणाली है कि केवल अपने Relational क्षमताओं का उपयोग कर संग्रहीत Data प्रबंधन पर लागू किया जा सकता है।यह एक नींव नियम है, जो अन्य सभी नियमों के लिए एक आधार के रूप में कार्य करता है।
Rule 1: Information:- Data जो Database में stored है, यह user data या metadata हो सकता है, कुछ तालिका(table) कक्ष के एक मूल्य होना चाहिए।एक database में सब कुछ एक table प्रारूप में संग्रहीत किया जाना चाहिए।
Rule 2 : Guaranteed Access:- हर एक data element (value) table नाम ,primary-key(row value), और attribute का नाम (column value) के संयोजन के साथ तार्किक सुलभ होने की गारंटी है।इस तरहके संकेत के रूप में कोई अन्य साधन, डेटा का उपयोग करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।
Rule 3: Systematic Treatment of NULL Values:- एक database में null मान एक व्यवस्थित और वर्दी उपचार दिया जाना चाहिए। डेटा याद आ रही है, डेटा ज्ञात नहीं है, या डेटा लागू नहीं है (data is missing, data is not known, or data is not applicable.) यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण नियम की वजह से एक null से एक के रूप में निम्नलिखित व्याख्या की जा सकती है।
Rule 4: Active Online Catalog:- पूरे डेटाबेस की संरचना विवरण एक online सूची, के रूप में जाना जाता है में संग्रहीत किया जाना चाहिए डेटा शब्दकोशहै, जो अधिकृत उपयोगकर्ताओं द्वारा पहुँचा जा सकता है। उपयोगकर्ता सूची है जो वे स्वयं डेटाबेस पहुँचने के लिए उपयोग का उपयोग करने के लिए एक ही क्वेरी भाषा का प्रयोग कर सकते हैं।
Rule 5: Comprehensive Data Sub-Language:- एक database केवल डेटा परिभाषा, आंकड़ों में गड़बड़ी, और लेनदेन प्रबंधन कार्यों का समर्थन करता है कि रैखिक वाक्य रचना कर रहे एक language का प्रयोग करती है।इस language को प्रत्यक्ष या कुछ आवेदन के माध्यम से इस्तेमाल किया जा सकता है। डेटाबेस इस भाषा के किसी भी मदद के बिना डेटा के लिए उपयोग की अनुमति देता है, तो यह एक उल्लंघन केरूप में माना जाता है।

Rule 6: View Updating:- सभी एक डाटाबेस, सैद्धांतिक रूप से अद्यतन किया जा सकता है, जो के विचारों को भी प्रणाली द्वारा Update able होना चाहिए।
Rule 7: High-Level Insert, Update, and Delete:- एक डेटाबेस उच्च स्तरीय प्रविष्टि, अद्यतन, और विलोपन का समर्थन करना चाहिए।यह एक ही पंक्ति तकही सीमित नहीं कियाजाना चाहिए, वह यह है कि यह भी संघ, चौराहे और शून्य से संचालन डेटा रिकॉर्ड के सेट उपज का समर्थन करना चाहिए।
Rule 8: Physical Data Independence:- डेटा एक डेटाबेस में संग्रहित है कि डेटाबेस का उपयोग आवेदनों की स्वतंत्र होना चाहिए।एक डेटाबेस की शारीरिक संरचना में कोई परिवर्तन कैसे डेटा बाहरी अनुप्रयोगों के द्वारा पहुँचा जा रहा है पर कोई असर नहीं होगा।
Rule 9: Logical Data Independence:- एक डेटाबेस में तार्किक डेटा अपने उपयोगकर्ता केदृश्य (आवेदन) की स्वतंत्र होना चाहिए।तार्किक डेटा में कोई परिवर्तन यह प्रयोग कर अनुप्रयोगोंको प्रभावित नहीं करना चाहिए।उदाहरण के लिए, दो टेबल विलय कर रहे हैं या एकसे दो अलग-अलग टेबल में विभाजित है, तो वहाँ कोई प्रभाव या उपयोगकर्ता आवेदन पर परिवर्तन होना चाहिए।इस लागू करने के लिए सबसे कठिन नियम से एक है।
Rule 10: Integrity Independence:- एक डेटाबेस इसे इस्तेमाल करता है कि आवेदन की स्वतंत्रहोना चाहिए।अपने सभी ईमानदारी की कमी स्वतंत्र रूप से आवेदन में किसी भी परिवर्तन की आवश्यकता के बिना संशोधितकिया जा सकता है।यह नियम सामने के अंत आवेदन और इसके इंटरफेस का एक डाटाबेस स्वतंत्र बनाता है।
Rule 11: Distribution Independence:- अंत उपयोगकर्ता देखना है कि डेटा के विभिन्न स्थानों पर वितरित किया जाता सक्षम नहीं होना चाहिए।उपयोगकर्ताओं को हमेशा धारणा है कि डेटा केवल एक ही स्थल पर स्थित है मिलना चाहिए।यह नियम वितरित डाटाबेस सिस्टम की नींव के रूप में माना गया है।
Rule 12: Non-Subversion:- एक प्रणाली है कि एक इंटरफेस निम्न स्तर के रिकॉर्ड तक पहुँच प्रदान करता है, तो इंटरफेस प्रणाली और बाईपास सुरक्षा और ईमानदारी की कमी नाश करने में सक्षम नहीं होना चाहिए।


R-DBMS का परिचय 

Relational Database असल में एक ऐसा Database होता है जो की Store करती है Data को यह एक Structured Format में होता हैं, जिसमें Rows और Columns का इस्तेमाल करके इसे आसान बनाता है। कुछ Specific Values को locate और Access करने के लिए Relational Database का प्रयोग किया जाता हैं। 
इसलिए इसे “Relational” कहा जाता है क्यूंकि इसमें प्रत्येक Table के Values Related होते हैं एक-दुसरे के साथ Tables भी एक-दुसरे के साथ सम्बंधित होते हैं। ये ही Relational Structure ये मुमकिन करती है की Queries को Run किया जा पाता है। Multiple Tables के Across करता हैं वो भी एक ही समय में करता हैं।
वैसे तो एक Relational Database Describe करता है Database के प्रकार को जो की एक R-DBMS Manage करता है, वहीँ R-DBMS Refer करता है Database Program को ही. यह एक ऐसा Software होता है जो की Queries को Execute करती है Data के ऊपर, जिसमें शामिल होती है Values की Adding, Updating, and Searching करना।
एक R-DBMS Data की एक Visual Representation भी प्रदान करता है। उदाहरण के लिए, ये Data को Display करता है एक Tables में जैसे की एक Spreadsheet, जो की आपको allow करती है। उन्हें View और यहाँ तक की Edit करने के लिए भी Individual Values को वो भी Table में. कुछ R-DBMS Programs आपको Allow करते हैं Forms Create करने के लिए जो की Data की Streamline Entering, Editing, और Deleting कर सकें।
ज्यादातर प्रसिद्ध DBMS Applications आते हैं इसी R-DBMS Category के अंतर्गत उदाहरण के लिए Oracle Database, MySQL, Microsoft SQL Server, और IBM DB 2. कुछ Programs Support करते हैं Non-Relational Databases, लेकिन उन्हें Primarily इस्तेमाल किया जाता है। Relational Database Management के तोर पर।
Relational Databases में शामिल हैं Apache HBase, IBM Domino, और Oracle No SQL Database. इस प्रकार की Databases को Manage किया जाता है दुसरे DBMS Programs के द्वारा जो की Support करते हैं No SQL, और जो की R-DBMS Category के अंतर्गत नहीं आते हैं।


ओवरव्यू एंड आर्किटेक्चर कमर्शियल R-DBMS 

1980 के दशक में उनके परिचय के बाद से, रिलेशनल डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (R-DBMS) विविध प्रकार केउद्योगों के लिए मानक डेटाबेस प्रकार बन गए हैं।जैसा कि उनके नाम का तात्पर्य है, ये तंत्र संबंधपरक मॉडलपर आधारित होते हैं जो संबंधों के रूप में संदर्भित तालिकाओं के समूह में डेटा का आयोजन करता है। 
यह तीन लोकप्रिय R-DBMS के इतिहास और सुविधाओं की खोज करता है; R-DBMS, मायएसक्यूएल, और एसक्यूएल सर्वर। तुलना आपको सिस्टम के बीच के मतभेदों को समझने में मदद करनी चाहिए, और यदि आप R-DBMS को लागू करने पर विचार कर रहे हैं, तो आपको ऐसी जानकारी प्रदान करें जो निर्णय लेने में मदद करेगी। 
यदि आप R-DBMS के काम के बारे में अधिक जानने में रुचिरखते हैं, तो कई पाठ्यक्रम उपलब्ध हैं। उदाहरण के लिए, R-DBMS शुरू कर रहा है पाठ्यक्रम इस प्लेटफ़ॉर्म में आपको परिचय कर सकता है और आपको यह कैसे काम करता है के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान करता है।
Oracle. MySQL. SQL Server Interface GUI, SQL SQL GUI, SQL, Various Language support Many, including C, C#, C++, Java, Ruby, and Objective C Many, including C, C#, C++, D, Java, Ruby, and Objective C Java, Ruby, Python, VB, .Net, and PHP Operating System Windows, Linux, Solaris, HP-U X, OS X, z/OS, A IX Windows, Linux, OS X, FreeBSD.


R-DBMS क्या हैं?

R-DBMS होता है रिलेशनल डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम्स। यह DBMS का ही एक टाइप होता है जो की रिलेटेड टेबल मे डाटा को स्टोर करने के काम आता है। R-DBMS एक डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (DBMS) होता है जो की रिलेशनल मॉडल पर बेस्ड होता है। R-DBMS एक ऐसा डेटाबेस होता है जो की डाटा को Structured फॉर्मेट मे स्टोर करता है जैसे Row and Column। 
डाटा को Structured Format मे स्टोर करने से डेटाबेस मे स्टोर किसी भी वैल्यू को लोकेट एंड सर्च करना बहुत आसान हो जाता है। इसको “Relational” कहा जाता है क्योकि जो भी वैल्यूज और डाटा, डेटाबेस की किसी टेबल मे स्टोर होता है वह सब आपस मे एक दूसरे से रिलेटेड होता है।
लगभग सभी Modern-day Database Management Systems जैसे की Microsoft SQL Server, Oracle, MySQL IBM DB 2, और Microsoft Access आदि Relational Database Management System पर आधारित है।
R-DBMS एक ऐसा Database होता है जो की Data को Structured डाटा को Established Format मे कलेक्ट करने से डेटाबेस मे स्टोर किसी भी वैल्यू को आसानी से सर्च कर सकते है। Financial Statistics से लेकर Personal Records और काफी सारे Statistics को स्टोर करने के लिए R-DBMS का उपयोग किया जाता है।
एक Table का डेटा तो आपस मे रेलटेड होता ही है बल्कि डेटाबेस की बहुत सारी टेबल्स भी आपस मे एक दूसरे से राल्टेड हो सकती है। R-DBMS का यह रिलेशनल स्ट्रक्चर बहुत सारी टेबल पर एक साथ Queries Run करना पॉसिबल बनाता है। DBMS es का सबसेट भी कहते है। 


Query क्या होती है?

R-DBMS मॉडल रिलेशनल डेटाबेस को क्रिएट, अपडेट एवं एडमिनिस्टर करना इजी एवं यूजर Friendly बनाता है। जब R-DBMS Invent हुआ था तब SQL Invent भी नहीं हुआ था उसके बाद भी आज की Date मे SQL को R-DBMS मे सबसे ज्यादा Use किया जाता है एवं ज्यादातर Commercial R-DBMS अलग अलग Operation परफॉर्म करने के लिए Structured Query Language (SQL) Use करते है।
ज्यादातर सभी नए मॉडर्न डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम्स जैसे SQL, MS SQL Server, IBM DB 2, ORACLE, My-SQL एवं माइक्रोसॉफ्ट एक्सेस R-DBMS Based है। Oracle को First Commercial R-DBMS माना जाता है जो की 1979 मे Release किया था।


R-DBMS के घटक

Table:- R-DBMS में डेटा को डेटाबेस ऑब्जेक्ट्स में स्टोर किया जाता है जिसे हम टेबल कहते है। इसमें कई Columns and Row का कलेक्शन होता है, जिसमे रिलेटेड Fee या Records को स्टोर कर सकते है।
Field:- प्रत्येक Table को छोटी-2 पार्ट्स में Device किया जाता है जिन्हें हम Fields कहते है। उदहारण के लिए Customer Table में ID, NAME, AGE, ADDRESS और SALARY Filed ऐड कर सकते हैं।

Row or Records:- एक Row Horizontal Column का Collection होता है। एक Row में उतने ही Columns होते है जितने की Desk में Discipline शामिल होते है। एक Row के सभी Columns में Desk के सभी Fields के लिए अलग-2 Information Keep किया जाता है।
एक Row एक Gadgets की ही Entry होती है और इसके सभी Columns की Facts Gadgets से Associated होती है। एक Row में जरूरत के अनुरूप Columns में Price होती है।

Columns:- एक Column हमारी Vertical Access को दर्शाता है। एक Column किसी Unique Filed से Associated Desk की सभी Entries को Display करता है।

NULL:- एक टेबल के अंदर NULL वैल्यू का मतलब है की उसमे कोई cost स्टोर नहीं किया गया है, ऐसे में fields को null कहते है।
Example of Non-Relational Data Base-Apache HBase, IBM Domino and Oracal NoSQL डेटाबेस। इस टाइप के डेटाबेस को दूसरे तरह के DBMS Programs मैनेज करते है जो की NoSQL सपोर्ट करते है (जो की R-DBMS Class मे नहीं आते)।

Tuple:- Tuple एक Table के Row को कहते है ,जो Relation के लिए Single Record रखता है Tuple कहलाता है।

Relation instance:- Relational Database System में Tuples के एक परिमित Set Relation Instance को Represents करताहै। Relation Instance में Duplicate Tuples की जरूरत नहीं होती है।

Relation schema:- Relation Schema किसी Name (Table Name), Attributes, And Their Names.आदि को Describes करता है।

Relation key:- प्रत्येक Row एक या एक से अधिक Attributes के Relation Key है, जो रिश्ता (Table) विशिष्ट रूप में पंक्ति की पहचान कर सकते हैं Relation Key के रूप में जाना जाता है।


R-DBMS की विशेषताएँ 

Tabular Data Model:- DBMS में डाटा को एक टेबल के रुप में रखा जाता है अतः इसे समझना बहुत ही आसान होता है साथ ही डाटा को बहुत आसानी से एक्सेस किया जा सकता है।

Standard Language:- R-DBMS में डाटा पर कार्य करने के लिए एक स्टैंडर्ड लैंग्वेज जैसे SQL का प्रयोग किया जाता है, जो उपयोग करने में सरल है।

Parallel Operations:- R-DBMS में एक साथ होने वाले Parallel Operations को सपोर्ट करता हैं। 

Distributed Database:- R-DBMS में उपलब्ध डाटा बेस को कंप्यूटर पर डिस्ट्रीब्यूट करके रखा जा सकता हैं। 

Higher Quality:- R-DBMS में हाई क्वालिटी वाले रिलाएबल रूल्स का प्रयोग किया जाता हैं जिससे सिस्टम फेलियर की पॉसिबिलिटी कम हो जाती हैं।


R-DBMS का उपयोग

  1. यह डाटा को टेबल के रूप में उपलब्ध कराता है। 
  2. इसमें डाटा को रो तथा कॉलम के रूप में भी स्टोर कर सकते है। 
  3. Row को यूनिक आइडेंटिटी Primary key के द्वारा उपलब्ध कर सकते है। 
  4. यह डाटा को शीघ्रता से वापस करने के लिए Index को क्रिएट करता है। 
  5. दो या दो से अधिक टेबल के बीच में रिलेशनशिप को स्थापित कर सकते हैं।
  6. मल्टी यूजर एक्सेसिबिलिटी को उपलब्ध कराता हैं जिसे व्यतिगत यूजर के द्वारा नियंत्रित किया जा सकता हैं।


स्कीमा

हर Database का 3-level Architechure होता है और हर level पर एक schema होता है,जो उस Database के Structure को define करता है । Schema बताता है की आपके Record का नाम क्या है उसका Data type क्या है।Schema को दो भागों में divide किया जा सकता है:-
1. Physical schema
2. logical schema

Physical schema:- Physical Schema यह Define करता है कि Data को DBMS में किस प्रकार Represent किया जाता है तथा Data को किस प्रकार Store किया जाता है।

Logical schema:- Logical Schema ऐसे सभी Logical Constraints को Define करती है, जो Data को Store करने के लागु किये जाते है ।


रिलेशनल मैपिंग कार्डिनालिटी 

कार्डिनालिटी एक इकाई सेट में संस्थाओं की संख्या को परिभाषित करती है, जो संबंध सेट के माध्यम से अन्य सेट कीसंस्थाओं की संख्या के साथ जुड़ी हो सकती है। Entities के मध्य प्रकार की Relationship होती है।

1. One-to-one(1:1):- यह तब होती है जब Entity A का एक Instance, Entity B के एक Instance के साथ Associated होता है। उदहारण के लिए किसी Office में Employees का अपना अलग-अलग Office होता है। प्रत्येक Employee के लिए एक Unique Office होता है और प्रत्येक Office के लिए एक Unique R Employee होता है।

2. One-to-many(1:N):- Relationship तब होती है जब Entity A का एक Instance, Entity B के बहुत सारें Instance के साथ Associated होता है। उदहारण के लिए एक Employee एक Department में कार्यकरता है एक Department के पास कई Employee हो सकते है।

3. Many-to-one(N:1):- इकाई सेट से A से अधिक संस्थाएं इकाई सेट B की अधिकांश एक इकाई से संबद्ध हो सकती हैं, हालांकि इकाई सेट B से एकइकाई इकाई सेट A से एक से अधिक इकाई से संबद्ध हो सकती है।

4.Many-to-many(M:N):- Relationship तब होती है जब Entity A के बहुत सारें Instance, Entity B के बहुत सारें Instance के साथ Associated होता है। उदाहरण के लिए:-बहुत सारें Employees, बहुत सारें Projects में कार्यकर सकते है।


DBMS ओर R-DBMS में अंतर

DBMS:-

1.इसमें 2 Table के मध्य सम्बन्ध Application के द्वारा की जाती है।
2.यह Purchaser Server structure को Support करता है।
3.DBMS Dispensed Database को Guide नहीं करती है।
4.DBMS में Information की Security कम होती है।
5.यहाँ हर Desk का अलग-अलग Extension होता है।
6.DBMS E.F COD D के Eight या Eight से कम नियमों का पालन करता है।


R-DBMS:-

1.इसमें Desk के मध्य सम्बन्ध Desk Create करने वक़्त बनायी जाती है,
ज्यादातर R-DBMS Purchaser Server Architecture को Assist करते हैं।
2.ज्यादातर R-DBMS Disbursed Database को Guide करते हैं।
3.R-DBMS में Safety Multiple Level में उपलब्ध रहती है।
4.यहाँ कई सारी Table को Institution करके रखा जाता है।
5.यह F COD D के 8 या Eight से ज्यादा नियमों का पालन करती है।


R-DBMS के लाभ 

  1. R-DBMS बड़े-बड़े Database को संभालने में मदद करता है।
  2. R-DBMS में Facts को Edit, Delete और अपने तरीके से Adjust करना काफी Smooth है।
  3. R-DBMS को SQL Database के द्वारा भी Control किया जाता है। SQL से आप Complicated Queries Carry Out कर सकते है।
  4. R-DBMS में Information Stable होता है। R-DBMS में जरूरत के अनुरूप Tables को Show Disguise करा सकते है।


R-DBMS के नुकसान

  1. जब Commercial Software Program की बात आती है, तो Relational Data Base सेटअप की लागत बहुत अधिक होती है। इसके अलावा, Relational Database को संभालने के लिए Developers की आवश्यकता होती है।
  2. Table के कुछ Fields में वर्ण Individual Limit हैं, जिन्हें आप पार नहीं कर सकते हैं।
  3. यदि Table बहुत ज्यादा है, तो Speed बढ़ने के लिए बेहतर Hardware की आवश्यकता होगी।


निष्कर्ष

DBMS और R-DBMS के बीच अंतर यह है कि DBMS एक सॉफ्टवेयर है जो डेटाबेस बनाने और प्रबंधित करने में मदद करता है जबकि R-DBMS एक प्रकार का DBMS है जो रिलेशनल पर आधारित है। संक्षेप में, DBMS व्यक्तिगत उपयोगकर्ताओं के लिए अधिक उपयुक्त है जबकि R-DBMS कई उपयोगकर्ताओं के साथ जटिल अनुप्रयोगों के लिए अधिक उपयुक्त है।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 4.3 / 5. Vote count: 54

No votes so far! Be the first to rate this post.

Leave a Comment